Yugbodh ka Hastakshar

Last updated on Jun 14, 2010

Posted on Jun 14, 2010

I read this poem and found it very motivational.  Wanted to share it with all.

दिग्भ्रमित क्या कर सकेंगीं, भ्रांतियाँ मुझको डगर में;
मैं समय के भाल पर, युगबोध का हस्ताक्षर|

कर चुका हर पल समर्पित जागरण को;
नींद को अब रात भर सोने न दूंगा;
है अंधेरे को खुली मेरी चुनौती;
रोशनी का अपहरण होने न दूंगा |

जानता अच्छी तरह हूँ, आंधियों के मैं इरादे;
इसलिए ही; जल रहे जो दीप उनका पक्षधर हूँ |

Share on

Tags

Subscribe to see what we're thinking

Subscribe to get access to premium content or contact us if you have any questions.

Subscribe Now